प्रधान संपादक

gallery/ccdcb891d52ecf2656e612820207a81c_220x280

रुपेश

पिछले 35 वर्षों से मानवाधिकार के मुद्दे पर लगातार संघर्ष. सामाजिक कुरीतियों को समाप्त करने के लिए विभिन्न अभियानों का नेतृत्व. अलग-अलग विषयों पर काम करने वाले संगठनों और नेटवर्कों से जुड़कर कमजोर और वंचित तबकों से सशक्तिकरण के लिए प्रयास. सामाजिक मुद्दों, कानूनों से सम्बंधित विभिन्न पुस्तकों का संपादन.

 संपादक मंडल

gallery/arshad ajmal

अरशद अजमल

सूद रहित अर्थव्यवस्था के विशेषज्ञ एवं कई कॉपरेटिव सोसाइटी के संस्थापक. सामाजिक राजनैतिक मुद्दों पर सक्रीय. गरीबों वंचितों के उत्थान के लिए विभिन्न सामाजिक संगठनों से जुड़कर प्रयासरत. 

gallery/संजय कुमार सिंह

संजय कुमार सिंह

आर्थिक मामलों के विश्लेषक. सामाजिक-राजनैतिक मुद्दों के आलोचक. विविन्न मचों के माध्यम से दबे-कुचले लोगों के न्याय के लिए सक्रीय. 

gallery/प्रभाकर

प्रभाकर कुमार प्रजापति

विभिन्न सामाजिक मुद्दों पर शोधकार्य में सक्रिय. शहरी गरीबों, बेघरों के अधिकारों के लिए प्रयासरत. आपदा जोखिम न्यूनीकरण के लिए योजना निर्माण और क्रियान्वयन के लिए कार्यरत. 

gallery/रोहित

रोहित राही

रंगकर्मी. मानव अधिकार के विभिन्न मुद्दों पर जन जागरूकता के लिए सांस्कृतिक गतिविधियों के माध्यम से सक्रीय. 

सलाहकार

gallery/vinod kumar (1)

विनोद कुमार

रंगकर्मी, इप्टा के पूर्व सदस्य. गंभीर सामाजिक मुद्दों से जुड़े कई नाटकों का मंचन एवं निर्देशन. गिरीश कर्नाड की 'मुक्तनाद' के मुख्य पात्र तथा 'हम खवातीन' के निदेशक

gallery/nivedita jha (1)

निवेदिता झा

पिछले २५ सालों से पत्रकारिता से जुडी हैं. इनदिनों स्वतंत्र पत्रकारिता. कई अख़बारों और पत्रिकाओं में लेखन का काम. साहित्य लेखन, रंगकर्मी.

प्रबंधन

gallery/ritwij kumar

ऋत्विज कुमार

भोजन का अधिकार अभियान (बिहार) के सक्रीय सदस्य. भोजन, स्वास्थ्य, काम के अधिकार के लिए जन जागरूकता कार्यक्रमों का संचालन एवं प्रबंधन

gallery/mayuri (1)

मयूरी

सामाजिक कार्यकर्ता. महिलाओं के मुद्दों पर बिहार एवं झारखंड में सक्रीय

gallery/papu kumar

पप्पू कुमार

पिछले 10 वर्षों से अकाउंट कार्य में जिम्मेदारी में.